खँडहर

 

नीलम द्विवेदी,

अवशेष से कुछ रह गए थे,

गुजरे लम्हें पुरानी याद के,

कुछ काँपते अहसास भी,

तुम संग जगी उस रात के।


यादों का है बनता खँडहर,

बवंडर सा उठता हर प्रहर,

आज मन विचलित हुआ,

खामोशी ओढ़े मेरा शहर।


अब भी किसे खोजे नजर,

है मलवा कहीं पर खँडहर,

किस उम्मीद पर कोई जिए,

तन्हा सफर अनजानी डगर।


वो फिर अकेले चुन रहे थे,

कुछ ईंट उजड़े खँडहर के,

फिर से बनाने की ललक,

इक छांव अपनों के लिए।।


नीलम द्विवेदी,

रायपुर, छत्तीसगढ़।

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image