"यादें और फरियाद"

विमल सागर

जहाँ यादें वसी हों

वहीँ दिल नाज़ करता है

   वहीं अपनों के दिन भी दिल

     सदा रह स्मृतियों बनतीं हैं


तकदीर का बनता 

खिलोना खुद हमीं होते

 जहाँ परिजन सभी जन हों

  वहीं सब यादें बन आतीं हैं,


फ़साना लेकर अपनों का

  दिल बैचेन होता है

    दिलों में बसतें हैं रिश्ते 

       वो स्मृतियाँ बनतीं हैं।।


विमल सागर

बुलन्दशहर

उत्तर प्रदेश

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
गीता सार
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image