जल से कल है

प्रियंका दुबे 'प्रबोधिनी'

जल से जीवन, जल ही जीवन,

जल है तो खिलता.वन-उपवन।

जल से ही धरा......सुहागन है--

जल से है,खुशहाली जन-जन।।

जल से है सावन... हरा-भरा,

जल से नदियों का हृदय भरा।

जल ही जलचर का जीवन हैं--

जल से सागर में.. भाव भरा।।


जल भरकर सजल होता नैन,

जल बिना जीव-जन्तु.. बेचैन।

जल से धरती की हरियाली--

जल से ही है सुखद दिन-रैन।।


जल से सावन का मौसम है,

जल से मिटता ताप-जलन है।

जल ज्येष्ठ माह अमृत समान-

जल है तो ये जग "औसम" है।।


जल एक तिहाई....काया है,

जल से जीवित सब माया है।

जल सूख गया तो क्या होगा?-

जल से वृक्षो की....छाया है।


जल मिलकर हमे बचाना है,

जल से कल स्वर्ग बनाना है।

जल संरक्षण संकल्प करें--

जलस्तर अब खूब बढ़ाना है।।


जल की वारिश अगली पीढ़ी,

जल के लिए न उतरे सीढ़ी।

जल कुएँ से न सुखने पाए--

जल जतन करें पीढ़ी-पीढ़ी।।


जल गाँवों का शृंगार बने,

जल प्यासे का आहार बने।

जल है तो कल सुन्दरतम है-

जल जीवन का आधार बनें।।


प्रियंका दुबे 'प्रबोधिनी'

गोरखपुर, उत्तर प्रदेश

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
मैं मजदूर हूँ
Image