मात मिठाई

 

सुनीता द्विवेदी

मां की भी क्या बात चलाई

जीवन की है मात मिठाई


फीके फीके मां बिन सुख हैं

दुख की धूप में मात छांही

बडे़ अभागे  मां को त्यागें

भाग्य, पुण्य पूंजी ,गंवाई


मां के चरणों में जो बैठें

जीत लेते  सारी खुदाई


छीने जो काल मां की देही

बातों में  वो  रहे समाई


इस दुनिया का भाव नहीं वो

प्रभू की करुणा मांं बन आई

🌻 :सुनीता द्विवेदी🌻

🌻कानपुर उत्तर प्रदेश🌻

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
मधुर वचन....
Image