सपने

 


मधु अरोड़ा

सपने सच में सपने होते हैं ।

खुली आंखों से देखो तो बस अपने होते हैं।

 सपने हैं तो जिंदगी है,

  जिंदगी है तो सपने हैं ।

  साकार करो उन सपनों को ,

  मेहनत लगन में जुट जाओ तुम,

   दोनों एक दूजे से मिल पूर्ण होते हैं।

   बंद आंखों के सपने तो 

   ,नींद में खुशी, दुख देते हैं ।

   खुली आंखों के सपने

    जीवन को आह्लादित सा कर देते हैं।

    जिनमें सामर्थ्य है,

    सपनों को साकार बनाने की।

    संस्कृति इतिहास बदलने की,

     चलो मेहनत करें कुछ अपने

      कुछ देश के सपने साकार करें।।

                             दिल की कलम से

                             

                             

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image