जै श्री हरि

बिजेन्द्र कुमार तिवारी

सब कुछ करता है वही, हेतु बने सब लोग,

यश-अपयश को भूलकर, यतन करो यतयोग।

कर्ता-धर्ता है वहीं,वो हीं तारणहार,


उसकी किरपा के बिना, कोउ न पाया पार।

उससे नेह लगाय के, कर सत्कर्म विचार,

उसके सुमिरन से सदा, पातक कटे हजार।

सिरजन करता है वहीं, वो हीं करता नाश,

सबका मालिक एक वो, उसपे कर विश्वास।

रे बंदे उसपे कर विश्वास....।।

बिजेन्द्र कुमार तिवारी

🙏बिजेन्दर बाबू🙏

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
हास्य कविता
Image