रेत सी ज़िंदगी

 


डॉ अवधेश कुमार अवध

रेत - सी ज़िंदगी मुट्ठियों में भरी,

कब फिसल जाय इसका भरोसा नहीं।


खुल न जाएँ किसी हाल में मुट्ठियाँ,

बस यही डर हमें जीने देता नहीं।


टूट जाए नहीं साँस की श्रृंखला,

ढह न जाए अटारी बनी रेत की।


रेत है ज़िंदगी, ज़िदगी रेत है,

सोचने में कभी रात सोया नहीं।


भाईचारा अगर साथ कायम रहे,

गर्मियों में अगर रेत में हो नमी।


हौसला हो अवध नेह के साथ में,

रेत की ज़िंदगी में भी धोखा नहीं।


डॉ अवधेश कुमार अवध

मेघालय 8787573644

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
हास्य कविता
Image