स्वच्छ पर्यावरण



ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

आओ सब मिल अपना पर्यावरण सजाएं

 हर उत्सव त्योहार एक पेड़ लगाएं लगाएं।


अंतर्मन से हम पर्यावरणदिवस मनाए ,

अपनी धरती मां को हरियाली से सजाएं ।


जग में जब चारों ओर हरियाली होगी 

धरा व नभ में चिड़ियों की कलरव होगी।


हरेभरे बागों में कोयल की कूक गूंजेगी,

 शुद्ध हवा सब पर अमृत छिड़केगी।


 धरा की रचना शुद्ध हवा जब पाती,

निज काया से सारे रोगों को दूर भगाती।


सकल जीवमंडल को भी यह हंसाती,

सृष्टि की नियत आयु सबको दिलाती।


कह 'ओम' बन्द करो पौधों का नाश,

कालांतर होगा इसी से मानवता का विनाश।

मिलकर हो जैव विविधता का विकास।

स्वस्थ काया संग हो मगद का विकास।

रचनाकार:- ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

तिलसहरी, कानपुर

9935117487

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image