माँ की ममता

श्वेता शर्मा 

माँ की ममता है अपार

निस्वार्थ और निराकार

तू कल जैसी थी 

आज भी वैसी है

 देखे तेरे रूप हजार 

पर बदला नही

कभी तेरा  प्यार

चंडी बन हक पाना सिखाया

प्यार से जग में जीना सिखाया

माँ की ममता है अपार

निस्वार्थ और निराकार

माँ तू है ममता की मूरत

भोली भाली तेरी सूरत

कभी न बदले तू अपना व्यवहार

माँ की ममता है अपार

युग बदला लोग बदले

पर कभी न बदली 

माँ की परिभाषा

प्रेम ही है माँ की भाषा

माँ की ममता है आपार

माँ की ममता है अपार।।

श्वेता शर्मा 

रायपुर छत्तीसगढ़

स्वरचित

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image