मौसम

निवेदिता रॉय

ज़िंदगी के रंग हज़ार 

गर्मी सर्दी बसंत बहार 

कुदरत की देन हैं ये रंग बदलते मौसम 

बदल जाती हैं हसरतें 

बदल जाते हैं किरदार 

कुदरत की देन हैं ये बदलते एहसास 


 उतार चढ़ाव की कहानी है ये ज़िंदगी 

समझौतों का रस है ये ज़िंदगी 

कुदरत की देन हैं ये बदलते स्वाद


निवेदिता रॉय (बहरीन)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
क्षितिज के उस पार •••(कविता)
Image
मर्यादा पुरुषोत्तम राम  (दोहे)
Image