इच्छाएं

डाॅ. पुनीता त्रिपाठी

इच्छाएँ नहीं मरती

इन इच्छाओं से दबकर

मानव मन मरता है,

उसका तन मरता है ||


 फिर भी इन अधूरी 

इच्छाओं की चाह में 

 मनुष्य जीता रहता है

उसका वजूद जीता है||


और अन्तत:विलीन 

हो जाता है, पर पूर्ति 

नहीं होती ,इन इच्छाओं के भार से,

चला जाता है ,मानव संसार से ||


स्वरचित__ डाॅ. पुनीता त्रिपाठी

शिक्षिका, महराजगंज उ. प्र

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image