ग़ज़ल

 


समीर द्विवेदी नितान्त


माना कि साथ चल न सका कारवान के ।।

लेकिन ये मत समझ कि मेरे पाँव थक गए..।।


दिलकश मकाम राह में मिलते रहे मगर...

जारी रखा सफर न किसी तौर हम रूके..।।


मारा है किसने पीठ में खंजर नहीं पता...

सब दोस्त कह रहे हैं कि ऐ दोस्त हम न थे..।।


हैरान हैं वो कैसे सफर मैंने तय किया...

राहों में मेरी खार जिन्होंने बिछाए थे..।।


आसाँ नहीं है राहे वफा आजकल नितान्त...

हम खूब जानते थे मगर फिर भी चल पडे..।।


समीर द्विवेदी नितान्त

कन्नौज... उत्तर प्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image