सकारात्मक सोच (सायली छंद)

 


पिंकी सिंघल


ये

दिल मेरा

घबराता बहुत है

न जाने

क्यों


है

हर तरफ़

एक बेबसी सी

हर इंसा

परेशान


सब

कर रहे

बस दुआ हैं

दिल से 

अपने


खत्म

हो ये

कहर महामारी का

बहुत हुआ

बस


धैर्य

जांच रहे

ईश्वर भक्तों का

उत्तीर्ण होंगे

हम


है

पूरा विश्वास

मन में हमारे

हार नहीं

मानेंगें


जैसे

अब तक 

डटे रहे हम

आगे भी

रहेंगे


जज़्बा

जीतने का

कम न होगा

जीत जश्न

मनायेंगे


रखकर

सकारात्मक सोच

इस विपदा को

जड़ से

मिटायेंगे


पिंकी सिंघल

अध्यापिका

शालीमार बाग

दिल्ली

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
क्षितिज के उस पार •••(कविता)
Image
मर्यादा पुरुषोत्तम राम  (दोहे)
Image