चांद तुम बहुत खास हो.....

 

स्वपना सलोनी

 काली अंधेरी रात में , 

रोशनी का एक एहसास हो, 

अंधकार के मध्य से उभरी ,

हम सब की एकमात्र आस हो , 

चांद तुम बहुत खास हो| 


एक प्रेमी की कल्पनाओं में ,

सौंदर्य का अनंत भंडार हो ,

कवियों की असंख्य रचनाओं की, प्रेरणा एवं अनुपम आधार हो ,

चांद तुम बहुत खास हो|


 ईद या करवा चौथ की रात में ,

सबके लिए पूज्य और आस्था का आधार हो ,

हर रात अपनी अलग निरुपम छवि दिखाते हो ,

चांद तुम बहुत खास हो|

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image