वो कहते हमसे



पिंकी सिंघल

क्या बात हुई जो हम पर अब लिखते नहीं हैं आप

है खता हुई कोई हमसे या हमें भूल गए हैं आप


पहले तो हर तराना मेरा होता था जो गाते थे आप

पागल इस दिल पर मेरे करते थे राज बस आप


फिक्र नहीं हमें आपकी अब न कहना कभी ये आप

दिन हो या रात ख्यालों में मेरे रहते हो आप ही आप


देखो कभी भी हमसे अब दूर नहीं जाना आप

आप तो जिंदा रह लोगे हम रह पाएंगे न बिन आप


पिंकी सिंघल

अध्यापिका

शालीमार बाग दिल्ली

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image