मौन रह कर सब सहा जाता नहीं



 क्या कहें अब कुछ कहा जाता नहीं

बिन कहे भी तो,रहा जाता नहीं,


ज़िन्दगी की धारा है, ऐसे मोड़ पर

संग उसके अब बहा जाता नहीं,


वक्त ऐसा आ गया है ,अब यहां,

मौन रह कर सब सहा जाता नहीं,


जा रहे हैं लोग ऐसी भीड़ में अब,

जान कर कोई वहां जाता नहीं,


चार कांधे भी मयस्यर अब कहां,

देखने तक अब कोई आता नहीं,


बस सांसें भी रूक रूक के चल रही

इंसान का इंसान से कोई नाता नहीं


लगता है कि अनाथ है सारे यहां

कोई रहबर यहां , कोई विधाता नहीं


संतोषी दीक्षित 

कानपुर

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image