हँसते रहे

डाॅ. पुनीता त्रिपाठी

कुछ अच्छे, तो कुछ बुरे 

मन के फितूर निकलते रहें |१|


कुछ हँस के, कुछ रो कर

हम तुम गले मिलते ही रहें |२|


कुछ सुन कर, कुछ सुनाकर

 फिर भी हम मचलते ही रहें |३|


कुछ झुक के, कुछ झुकाकर

जिन्दगी तुझपे हँसते ही रहें |४|


कुछ गा के,कुछ गुनगुना कर

बर्फ से भी हम जलते ही रहें |५|


स्वरचित__ डाॅ. पुनीता त्रिपाठी

शिक्षिका, महराजगंज उ. प्र.

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image