हम गांधी के तीन बंदर

 

डाःमलय तिवारी 

हम गाँथी के बन्दर अपनी, नियति मानकर रेंक रहे हैं।

रंगमहल में बैठ के कुछ, दौलत की रोटी सेंक रहे हैं। 


जीतेगा कोई धर्मराज इस देश में कैसे, 

दुर्योधन के लिए आज भी, शकुनी पासा फेंक रहे हैं।। 


मुहताज हैं कुछ दानें दानेंं की आस लगाये बैठे हैं। 

कुछ लोग दूसरों के हक पर भी नजर गड़ाये बैठे हैं। 

अस्मत नारी की कैसे नीलाम न हो पग पग पर, 

जब हर चौराहे पर शकुनी ही दाँव बिछाये बैठे हैं ।।

       डाःमलय तिवारी 

बदलापुर जौनपुर

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
मधुर वचन....
Image