माँ मेरी जन्नत

सुषमा दीक्षित शुक्ला

 माँ मेरी छाया माँ मेरी ज्योति

ओ हो ओ,,,

माँ मेरी छाया माँ मेरी जन्नत

माँ मेरी आराधना ,,,,,।

तूने जग संसार दिखाया,

माँ तू ही है साधना,,,।

माँ मेरी छाया०००

ऐ!माँ तेरी दुआओं से तो,

मौत भी राह बदलती है 

माँ के आँचल की छाया ,

तो खुशनसीब को मिलती है ,,,।

दर दर तुझको ढूँढ रहा माँ

कहाँ छुपी मेरी आत्मा,,,,।

माँ मेरी छाया००००

मैं कपूत था समझ न पाया ,

कुछ न तुझको मैं दे पाया ।

तू ही थी परमात्मा ,,।

माँ मेरी छाया०००००2

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image