जाने कहाँ खो जाती हूँ मैं

 

डॉ अलका अरोडा

कोई जब पुकारता मुझको

भला कुछ चाहता मुझसे

मैं सुनकर सुन ना पाती हूँ

सिर्फ मुझको बुलाता हो

जाने कहाँ

खो जाती हूँ मैं


किसी को आस बन्धानी हो

किसी को श्वास दिलानी हो

किसी की प्यास बुझानी हो

सिर्फ मुझको बुलाता हो

जाने कहाँ

खो जाती हूँ मैं


जब बहुत तन्हा रहे कोई

उसे कोई राह ना सूझे

बेवजह तन्हाई में घूमे

सिर्फ मुझको बुलाता हो

जाने कहाँ

खो जाती हूँ मैं


कोई लम्हा जो जाता हो

वो इक पल ना लौट आता हो

वो गम को छिपाता हो

सिर्फ मुझको बुलाता हो

जाने कहाँ

खो जाती हूँ मैं


वो दूरी जो मिट ना पायेगी कभी

वो मजबूरी नजर आये ना कभी

मुझे आवाज देता कोई

सहारा चाहता कोई

जाने कहाँ

खो जाती हूँ मैं


आवाजे जब भी धीमी हो

खामोशीयाँ जानलेवाँ हो

कोई दुनियाँ से जाता हो

मेरा मिलना जुरूरी हो

जाने कहाँ

खो जाती हूँ मैं


डॉ अलका अरोडा

प्रोफेसर - देहरादून

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image