तराने दिल के गुनगुना लेती हूँ

 

विमल सागर

जहां यादें तुम्हारी हों

वहां महफिल नहीं भाती

बादल गम के होते हैं

नैन बरसात नहीं होती,


जब मैं तन्हा हो जाती हूँ

वहीं जब यादें आती हैं

फोन में देख फोटो को 

अश्क नैना भर लाती हूँ,


वहीं नज्म नाम तेरे के

लबों पर आ ही जाते हैं,

लम्हें बीती यादों के

लब नज्म गुनगुनाने लगते हैं,


वहीँ ख्बावों में आते हो

वहीं जन्नत सी लगती है

मिलन प्रीत का होना है

हिय संगीत मधुर धुन बजती है।।


विमल सागर

बुलन्दशहर

उत्तर प्रदेश

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image