हाइकु

 


नीरज कुमार सिंह

ओ कान्हा प्यारे

आओ मेरे आंगन

नैना निहारे।


मुरली धर

 न सता अब दुख

 को दूर कर। 


नंद के लाल

दुख दूर कर तू 

कर कमाल।


बंसी बजाओ

हृदय से डर को

कान्हा भगाओ।


गोविंद तेरी

दृष्टि पड़ी,बदली

किस्मत मेरी


नीरज कुमार सिंह

देवरिया यू पी

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image