ग़ज़ल


सुभाषिनी जोशी 'सुलभ' 

दिलों में सबके निश्छल प्रीति पले मेरे प्यारों।

खिले चाँदनी रात फिर ना ढले मेरे प्यारों।



बहुत अक्ता गये यही बंदिशों की जिन्दगी है, 

बस एक सरल आसां जीवन चले मेरे प्यारों। 


क्यों दुनिया जहां में यह मर्ज बढ़ता जा रहा है, 

अब तो बीमारी के ये दिन जले मेरे प्यारों।


काम बन्द, धंधा बन्द लोग बेकार बैठे हैं,

अब तो यह जिल्लत भुखमरी टले मेरे प्यारों।


सुनहरी सहर फिर से लौट आए मेरे रहबर,

अब तो सुकूं ऐ जिन्दगानी फले मेरे प्यारों।


सुभाषिनी जोशी 'सुलभ' 

इन्दौर मध्यप्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image