मैं हूँ बूंद

डॉ मंजु सैनी

मैं हूँ बारिश की बूंद जो अपने को

पृथ्वी के आँचल में अपने को खुश पाती हूँ

पृथ्वी अपने मे समेटे हैं हरियाली,खुशहाली

हरे भरे पेड़ लताये,न्यारे-न्यारे फूल,फल

पृथ्वी पर झरने और नदियाँ,बहती अविरल

खड़े पर्वत बहता सागर विशाल सब करते

बून्द बून्द का इंतजार।


झिलमिल सितारों की चमकते मेरे बरसने के बाद

अनंत अम्बर चमकता जैसे हो मणियों का हार

प्रात दिनकर की किरणों से चमकती धरा विशाल

शांत पवन भी बहती मंद मंद लिए मुस्कान

मानो खुशियां बांट रही आज बरसात की वो रात

मुझसे ही मिट्टी की सोंधी सी खूशबू भी करती

बून्द बून्द का इंतजार।


पेड़ो का शृंगार रंग-बिरंगे फूलों से होता

ऊर्जा पाती हूँ हूँ मैं ये सब देख 

स्नेह प्रस्फुटन होता सबका मुझसे नूतन पुष्पो को देख

बरसात का करते पशु-पक्षी भी बेसब्री से इंतजार

पक्षी करते कलरव मेरे आगमन से 

आनंदित होती हूँ मै भी उनकी प्यास बुझाकर ओर वो करते

बून्द बून्द का इंतजार।


सभी ऋतुओं से मिलती खुशियां बरसात की बात निराली

तभी हूँ गौरवान्वित, क्योंकि प्रकर्ति जीवन है सिर्फ़ मुझसे

मस्त हो बरसती हूँ कभी यहां कभी वहां

इठलाती, उल्लासित होती अंक पृथ्वी के गिरकर

गोद को ले मैं चूमती हूँ धरा की मानो गोद मिली हो माँ की

जीवन उत्सव मनाते गिरती हूं जब धरा पर तभी करते

बून्द बून्द का इंतजार।


डॉ मंजु सैनी

गाजियाबाद

घोषणा-यह मेरी स्वरचित रचना हैं

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
बाराबंकी के ग्राम खेवली नरसिंह बाबा मंदिर 15 विशाल मां भगवती जागरण बड़ी धूमधाम से मनाया गया
Image
सफेद दूब-
Image