नादानियाँ


निवेदिता रॉय 

हमेशा समझदारी के दामन में उलझे रहते हो 

कुछ नादानियाँ भी ज़रूरी है सनम

इस समझदारी के कटोरे में थोड़ी नादानी का तड़का लगा लो,

थोड़ा मुस्कुरा दो 

समझदार हो सयाने भी हो

अपनी अक़्ल का करो ज़रूर इस्तेमाल 

पर अपने अंदर के बच्चे का रखें ख़्याल 

नादानियों की खिल्ली जो हैं उड़ाते 

वो कौन सा कोई बड़ा इनाम पाते 

हंस खेल कर जो जीते 

ख़ुद के साथ औरों को भी कितनी को ख़ुशियाँ दे जाते ! 


निवेदिता रॉय (बहरीन)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
क्षितिज के उस पार •••(कविता)
Image
मर्यादा पुरुषोत्तम राम  (दोहे)
Image