ईद

नूर फातिमा खातून नूरी 

सेवई में अब वो मिठास नहीं,

पहले सा ईद का एहसास नहीं।



ना किसी के घर जा सकते,

ना किसी को बुला सकते,

ना ही हाथ मिला सकते,

ना जी भर गले लगा सकते,


पास रहकर भी पास नहीं,

पहले सा ईद का एहसास नहीं।


तन्हा ,चुपचाप पड़े है घर में,

कैसी उदासी है हर नज़र में,

हवाएं घुल रही है ज़हर में,

सुकून गांव में ना शहर में,


आज तो कुछ भी खाश नहीं,

पहले सा ईद का एहसास नहीं।


नूर फातिमा खातून नूरी 

शिक्षिका

 जिला-कुशीनगर

उत्तर प्रदेश


Popular posts
सफेद दूब-
Image
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
वंदना सिंह त्वरित : साहित्यिक परिचय
Image
कर्ज संकट की खास योग
Image