टूटती उम्मीदों की उम्मीद

 

 मधु अरोड़ा

 डूबते को तिनके का सहारा ही बहुत

  उम्मीद पर दुनिया है कायम 

  क्यों उम्मीद छोड़ते हो ।

  कल कुछ होगा बेहतर 

  आज क्यों कर्म से मुंह मोड़ते हो ।

  डूबते को तिनके का सहारा ही बहुत ।

  उम्मीद की किरण है जरूरी

   जिंदगी में कुछ कर पाने को ।

   आसरखो विश्वास रखो

    सब कुछ सही हो जाने को।

     उम्मीदों का हौसला कोई दे जाता है 

     आगे बढ़कर हाथ कोई थाम जाता है ।

     हौले से सिर पर हाथ कोई रख जाता है 

     टूटी उम्मीदों की डोर कोई थाम जाता है ।

     उम्मीदों की डोर को यूं हीथामते रहिए 

     जीवन जीने की कला को जानते रहिए ।

     सुख दुख तो जीवन के साथी है

     यह मानते रहिए 

     टूटती उम्मीदों की 

     उम्मीद की डोर थामते रहिए।।

                          दिल की कलम से

                          

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image