थोथा वार्तालाप



मुकेश गौतम

=======================

दोष मढ़ना सीख गये है हम तो बात बात में।

खुद को भी उलझा रखा है छोटी छोटी बात में।

------------‐‐-------------------‐---------

तेरा मेरा इसका उसका में सिमटकर रह गये।

खुद तो पाक साफ नहीं दोषी उसको कह गये।।

--------------------------------------------

झाक लेते गर अगर अपनी ही गिरेबान में।

तो लोग सर झुकाए होते अपने भी सम्मान में।।

--------------------------------------------

सोचा ना विचार किया ना ही पढ़ा ध्यान से।

फिर भी हम भरे पड़े हैं पूर्ण ब्रह्म ज्ञान से।।

--------------------------------------------

सब के सब ही रंग चुके थे बेनरों के रंग में।

सब ही हम हवा में उड़े बेरंगो के संग में।।

--------------------------------------------

उनकी झूठी वादियों में खुद को ले उड़े थे हम।

जब हवा रूकी वहाँ तो जस के तस पड़े हम।।

--------------------------------------------

अपना मन बदलने को बदल बदल के आये थे।

काले मन के उजलों ने सपनें ही दिखाये थे।।

--------------‌--‐-----------------------‐---

हम कभी न समझ सकें उनकी धूर्त चाल को।

तो चुप ही रहो बंद करों थोथे वार्तालाप को।।

-----------------------‐--------------------

हमकों तो उलझा रखा है जाति पांति धर्म में।

भेदभाव ईर्ष्या द्वेष और भाषा वाले मर्म में।।

--------------------------------------------

हम बदल न पाये खुदको उनकों ही बदलने में।

वह कभी भी चूके नहीं हमकों ही निगलने में।।

=======================

                           रचनाकार

                        -मुकेश गौतम

                    ग्रामडपटा बूंदी (राज)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image