नारी गौरव अभिमान है

डॉ अनुज कुमार चौहान "अनुज"

परिवेश सुरक्षित मिले तभी ,

नारी शक्ति का मान है ।

नारी सृष्टि , नारी शक्ति ,

नारी गौरव अभिमान है ।।

मंगलऔर सुमन्गल के पल,

खुशियों का आयाम है ।

सहज और ह्रदय स्पर्शी,

मन उज्जवल ,सत धाम है।।

नाम मिले, पहिचान मिले,

दिव्य विश्व कल्याण है ।

नारी सृष्टि,नारी शक्ति ,

नारी गौरव अभिमान है ।।

विश्वास आत्म- विश्वास कभी,

ना टूटे अलख जगाना है ।

स्वाबलंबन की डगर चले ,

ऐसे परिणाम दिलाना है ।।

जिम्मेदारी है हम सबकी ,

सशक्त बोध अरमान है ।

नारी सृष्टि ,नारी शक्ति ,

नारी गौरव अभिमान है ।।

स्वप्न पूर्ण,जागरुक रहें,

ध्यान रहे कर्तव्यों का ।

केवल अधिकारों पर जीना,

मर्म नहीं अस्तित्वों का ।।

सबल सोच सरंक्षण दृढ़ता,

मिशन शक्ति प्रतिमान है ।

नारी सृष्टि, नारी शक्ति ,

नारी गौरव अभिमान है ।।

डॉ अनुज कुमार चौहान "अनुज"

अलीगढ़ (उत्तर प्रदेश)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image