मौत का मंजर

वीरेंद्र सागर 

मौत के मंजर कि मैं किताब लिखता हूं,

लोगों के बिखरते हुए सपनों का मैं हिसाब लिखता हूं ||

मछली की तरह तड़प रहे हैं जो,


उन लोगों के मन का 

मैं भाव लिखता हूं ||

जीवन के लिए जरूरी है जो,

उन सांसो का मैं अभाव लिखता हूं||

रोते बिलखते रह गए जो मां बाप के लिए,

उन बच्चों के तन्हा मैं ख्वाब लिखता हूं||

लिखता हूं उनके ख्वाब भी जिनके बेटे बेटी चले गए,

यह कविता उन मां-बाप की  मालिक मैं तेरे नाम लिखता हूं ||

खत्म कर मौत का खेल अब मेरे मालिक,

यह प्रार्थना तुझको मैं सुबह शाम लिखता हूं||

दुख के भाव से भर गया है सागर,

सागर के हृदय का मैं तुझको पैगाम लिखता हूं|| 


वीरेंद्र सागर 

शिवपुरी मध्य प्रदेश

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image