एक रूप सलोना ऐसा भी

 


डा.मलय तिवारी 

भोली सूरत ही प्यार जैसी है। 

ये हँसी तो बहार  जैसी  है।। 



आईना देख कर न शरमाओ

सादगी ही सिंगार जैसी है  ।।

चाँद पूनम सा चमकता चेहरा, 

बोली बजते सितार जैसी है।। 

नयन दोनों हैं मदभरे प्याले, 

भवें तीखे कटार  जैसी हैं।। 

जुल्फें लगती हैं घटा सावन की, 

फली दन्त अनार के जैसी है। 

बँस बेलि कटिक कुच दीपों से, 

तन चंदन मन पुष्पहार जैसी है।। 

डाःमलय तिवारी 

बदलापुर, जौनपुर

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image