ग़ज़ल

  

इंदु मिश्रा'किरण

आज के दौर की हक़ीक़त है,

हर बशर को लुभाती दौलत है।


प्यार से बात हम करें किससे,

सबकी गुफ़्तार में सियासत है।


है नहीं चाह इशरतों का मुझे,

दर्द ही अब तो अपनी क़िस्मत है।


मेरे रहबर दिखा दो राह मुझे,

आदमी ने बदल ली फ़ितरत है।


ऐ 'किरण' आज जी लो जी भर के,

अब बदलने लगी ये क़ुदरत है।

     

 इंदु मिश्रा'किरण'

नई दिल्ली

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image