तुम मेरा मौन हो

पूनम शर्मा स्नेहिल

सब पूछते हैं मुझसे ,

तुम मेरे कौन हो ।

जो तन्हाई में बन खुशी ,

लबों पर छा जाते हो ।


कर अदृश्य से संकेत,

तुम मुझे करीब बुलाते हो ।

बनकर ख्वाब आंँखों में ,

समा जाते हो।


मुश्किल में अक्सर,

राह दिखा जाते हो ।

कभी हंँसाते हो ,

तो कभी गुदगुदाते हो।


 मन को शांत नदी में,

 हलचल सी मचा जाते हो ।

बारिश की पहली बूंद सा,

 तुम मुझमें समा जाते हो ।


आहिस्ता- आहिस्ता जीवन में,

 खुद को खास बना जाते हो ।

कभी अनायास ही ,

मेरी पलकें भिंगा जाते हो ।


देखकर दुखी मुझे ,

गले से लगा जाते हो ।

सब पूछते हैं मुझसे,

 तुम मेरे कौन हो ।


तुम मेरा मौन हो,

 तुम मेरा मौन हो।।


©️®️☯️

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image