मां


"जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी"





इस अकिंचन की लेखनी में वह मसि कहाँ 

जो माँ की ममता का आकलन कर सके

कवि की कल्पना शक्ति में वह चतुराई कहाँ 

जो ममता की गहराई का मापन कर सके

फिर भी इस माली की डाली में अर्पित हैं 

कुछ श्रद्धा-सुमन ममता की वेदी पर चढ़ाने को

एक हठी बालक की भाँति उन्मत है यह मन

सूरज के सामने एक नन्हा-सा दीप जलाने को

              गीता चौबे गूँज 

             राँची झारखंड

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image