मां से है दुनिया

जितेन्द्र 'कबीर'

प्यार से रोज 

उससे बतियाओ,

कुछ उसकी सुनो

कुछ अपनी सुनाओ,


दर्द हो जो सिर में

तो हौले से सिर दबाओ,

आजकल के हिसाब से

सही ना हो चाहे

पर कभी-कभी उसकी

बेतुकी बातें भी 

मान जाओ,


डांटे जो कभी 

तो ना मुंह फुलाओ,

बचपन की तरह

उसके गले लिपट

गुस्सा ठंडा करवाओ,


उसकी वजह से है

हमारी हस्ती

रोज खुद को यह

याद दिलाओ,

'मां' से है हमारी दुनिया

एक दिन ही क्यों?

हर दिन उसके

नाम पर मनाओ।


           जितेन्द्र 'कबीर'

गांव नगोड़ी डाक घर साच तहसील व जिला चम्बा हिमाचल प्रदेश 176314

संपर्क सूत्र - 7018558314

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image