दोहे




मित्र वही है आपका ,सदा आपके साथ ।

रहता विपदा में खड़ा, रखो हमेशा माथ


मन मौजी है बाबरा ,संभल रहना आज ।

 घूमे बाहर व्यर्थ तो ,बिगडेगे सब काज ।।


व्यर्थ अर्थ का भागना ,मिलता न कभी चैन ।

शांति आस में भागते ,गुजरेंगे दिन रैन ।।


श्रम ही लिखता भाग्य को ,श्रम पर कर विश्वास ।

श्रम बिना न रखना कभी ,जग में कोई आस ।।


कैसी तृष्णा पाल मन ,क्यूँ भरकता उदास 

ईश्वर भीतर ही रमा ,बाहर पाले आस ।।


मन प्रेम सौहार्द रखो , सरल एक समाधान ।

शांति ह्रदय खुद आ बसे , काहे का व्यवधान ।।

उतरे काग़ज़ पर सभी ,मानव मन के भाव ।

मन की कलम बनी सखी ,बाँध घुँघरू पाँव ।।


माँ शारदे नमन करूँ ,सिर पर राखों हाथ 

 अन्याय से लड़ती रहूँ ,कलम हमेशा साथ 


   निर्मल गंगा भावना ,हैं चरित्र आधार ।

प्रीत रीत बहती रहे ,जग का हो उद्धार ।।

सवि शर्मा

देहरादून 

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image