मां बेटी का रिश्ता

हरप्रीतकौर

मैं और मेरी मां का रिश्ता

है बड़ा अनोखा,

मेरी मां मेरा रखती बड़ा ध्यान,


कोई भी त्रुटि होने पर मुझे समझाती

प्यार से मुझे निखारती,

हर पल मेरा साथ निभाती,

भूख न लगने पर खाना खिलाती,

मैं और मेरी मां का रिश्ता है निराला

जिसने हर कदम मुझे सम्हाला।

मेरी मां मेरी आंखो मे आंसू आने नही देती,

दुनिया की हर खुशी मुझे देना चाहती है।

अपनी आंखों से अश्क बहाकर

अपने आप से जुदा करती है।

फिर भी हर पल मेरे लिए दिल से

हमेशा दुआ करती है।

हरप्रीत कौर

शाहदरा, दिल्ली

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
क्योंकि मैं बेटी थी
Image