मालिक तेरा ही बस सहारा

  

आकाश सिंह "अभय"

ये जीवन का कालचक्र है निराला,

कहीं धूप, कहीं छांव है सारा ,

कभी बारिश कभी सूखे का सहारा,


ये जीवन का कालचक्र है निराला ।।


हम सब यहाँ कठपुतली हैं, 

मालिक तेरा ही बस सहारा, 

मालिक तेरा ही बस सहारा, 

यह जीवन का कालचक्र है निराला।।


ये मेरा, ये तेरा ,

इन सब मे भरा पड़ा है जग सारा,

ये जीवन का काल चक्र है निराला, 

यहाँ मालिक तेरा ही बस सहारा ।

यहाँ मालिक तेरा ही बस सहारा।।


- आकाश सिंह "अभय"

    कर्बीआंगलांग,असम

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
गीता सार
सफलता क्या है ?
Image
श्री लल्लन जी ब्रह्मचारी इंटर कॉलेज भरतपुर अंबेडकरनगर का रिजल्ट रहा शत प्रतिशत
Image