मालिक तेरा ही बस सहारा

  

आकाश सिंह "अभय"

ये जीवन का कालचक्र है निराला,

कहीं धूप, कहीं छांव है सारा ,

कभी बारिश कभी सूखे का सहारा,


ये जीवन का कालचक्र है निराला ।।


हम सब यहाँ कठपुतली हैं, 

मालिक तेरा ही बस सहारा, 

मालिक तेरा ही बस सहारा, 

यह जीवन का कालचक्र है निराला।।


ये मेरा, ये तेरा ,

इन सब मे भरा पड़ा है जग सारा,

ये जीवन का काल चक्र है निराला, 

यहाँ मालिक तेरा ही बस सहारा ।

यहाँ मालिक तेरा ही बस सहारा।।


- आकाश सिंह "अभय"

    कर्बीआंगलांग,असम

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
मधुर वचन....
Image