हम मज़दूर हैं

राकेश चंद्रा 

हम मज़दूर हैं ,

हम नाप सकते हैं हजारों 

मील की दूरी नंगे पांवों से ;

लाँघ सकते हैं हम पर्वत और कंदराओं को ,

पैरों में पड़े छाले और फफोले

खुद-ब-खुद बन जाते हैं हमारा श्रंगार ;


बचपन हमारा बीतता है 

कारखानों की दहलीज पर , और

यौवन के ताप से दहकती है चिमनियाँ ; 

हमसे ही नया रूप लेते है बड़े लोग ,

हमारे रक्त से सिंचित है इस धारा की नींव ;

करते है काम जब तक साँस में है साँस ,

रौंदती है जब रेलगाड़ियाँ हमें ,

करते हैं बड़े अदब से मृत्यु को सलाम !


कभी बेर या महुआ के फूलों को सुखाकर,

या फिर मिट्टी की रोटियों को धूप दिखाकर ,

खा लेते हैं अपनी भूख को चटनियों के साथ ;

निगल लेते हैं आँसुओं को स्वच्छ जल की तलाश में ,

यूँ ही बुझाया करते हैं हम सदा से एक अनबुझी सी प्यास ;


हमारे अपने भी हैं जो रहते हैं दूर गांव में,

 उनके साए में रहकर ही कटती है 

यह मुश्किल सी जिंदगी ;

जग कर देखते हैं और जिनके हसीन ख्वाब , 

उनको भी क्यों छीनना चाहते हैं मेरे वतन के लोग ?

हम मज़दूर हैं बनाते हैं अपने मुल्क की तकदीर, 

फिर क्यों भटक रहे हैं हम 

जिंदगी के इस बियाबान में ?

@राकेश चंद्रा 

610/60, केशव नगर कालोनी 

सीतापुर रोड, 

लखनऊ उत्तर-प्रदेश-226020

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image