बचपन

 


स्मिता पांडेय

फिर से बचपन लौट आए गर,जीना उसे सिखाऊँ,

अनुभव की लाठी देकर मैं,चलना उसे सिखाऊँ,


मूल्य खो रहे रिश्तों में,जीवन जीना है मुश्किल,

हर इँसां में छिपा हुआ इक,खंज़र तुझे दिखाऊँ ।


चले बिना न मिलती मंज़िल,कदम बढ़ाना पड़ता,

पथ की बाधाओं से लड़ना,तुझको मैं सिखलाऊँ ।


जीवन रुपी पथ पर भी तुम,बिल्कुल न घबराना,

तुझे लक्ष्य तक पहुँचाने में,सही दिशा दिखलाऊँ

स्वरचित 

स्मिता पांडेय

लखनऊ

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image