बचपन

 


स्मिता पांडेय

फिर से बचपन लौट आए गर,जीना उसे सिखाऊँ,

अनुभव की लाठी देकर मैं,चलना उसे सिखाऊँ,


मूल्य खो रहे रिश्तों में,जीवन जीना है मुश्किल,

हर इँसां में छिपा हुआ इक,खंज़र तुझे दिखाऊँ ।


चले बिना न मिलती मंज़िल,कदम बढ़ाना पड़ता,

पथ की बाधाओं से लड़ना,तुझको मैं सिखलाऊँ ।


जीवन रुपी पथ पर भी तुम,बिल्कुल न घबराना,

तुझे लक्ष्य तक पहुँचाने में,सही दिशा दिखलाऊँ

स्वरचित 

स्मिता पांडेय

लखनऊ

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
क्योंकि मैं बेटी थी
Image