घरौंदा



डॉ मधुबाला सिन्हा

याद उन्हें कर करके हमने

कितने घरौंदे बना डाले हैं

कुछ गिर जाते हैं रोज़ धड़क

कुछ लम्हों में गिरा डाले हैं

कहते हैं निकला चाँद कहीं

कहीं तारे भी टिमटिमाते हैं

ढल गयी चमक दूर सूरज की

 अपने भी यूँ बिछड़ जाते हैं

दूर कहीं मन्दिर की घण्टी

कहीं से अज़ान भी आते हैं

लगी क़तारें कहीं जनाज़े

कहीं लपटें उठाए जाते हैं

कहीं बिखरा हुआ मज़मून

कहीं मज़लूम बनाए जाते हैं

मजबूरों की इस बस्ती में

कहीं चीख़ दबाए जाते हैं

दिल कहता कहीं दूर चलो

फ़िर टहला वापस लाता है

दबी हुई जो राख -चिंगारी

उससे मन घबड़ा जाता है.....

      ★★★★★

डॉ मधुबाला सिन्हा

मोतिहारी,चम्पारण

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
मधुर वचन....
Image