सर्वेक्षण

राकेश चन्द्रा

छोटे-बड़े नगरों और

महानगरों में,

सड़क के दोनों ओर,

शान से खड़ी हैं

अन्तहीन विस्तार लिये

अनगिनत इमारतें .

बस्तुकला के श्रेष्ठ नमूने,

सुन्दर ज्यामितीय संरचनाएं,

परम्परागत भव्यता

के प्रतिमान,


रंग-बिरंगी, सम्मोहक

ये जादुई इमारतें.

जिनमें

पाये गए- दर्पयुक्त चेहरे,

दंभ-भरी मुस्कान,

खोखली हॅंसी, लिजलिजे मुखौटे,

चरमराते आदर्श, रिरियाती

नैतिकता, स्केलेटन पर

सभ्यता का खोल ओढ़े,

आधे-अधूरे, हैरान से

खुद से परेशान-

आदमजात.


आत्मघाती, अंतहीन दौड़ में

टकटकी बॉंधे निराश, थकी-थकी

पथराई ऑंखे; चमक-दमक,

राग-रंग में सराबोर,

बेखुदी के आलम में मस्त-मस्त,

सपनों के व्यापारी.


सर्वेक्षित इमारतों में

सुसज्जित मकान मिले,

कार्यालय, चमचमाती दुकान और

व्यापारिक प्रतिष्ठान मिले.

स्कूल, अस्पताल और

धार्मिक स्थान मिले.

कोई घर नहीं मिला.


राकेश चन्द्रा

610/60, केशव नगर कालोनी

सीतापुर रोड, लखनऊ

 उत्तर-प्रदेश-226020,              

दूरभाष नम्बर : 9457353346

rakeshchandra.81@gmail.com

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image