हृदयोद्गार

  


नए जोश की  नई किरण उत्साह भरी ए राहे हो

 हरदम साथ रहे सबके प्रेम भरी ही बातें हो

कभी न रुठे एक दूजे से व्यंग भरी ना ताने हो

 चमके सबका जीवन ऐसे जैसे गगन सितारे हो

 फूल ही फूल खिले उपवन में कहीं न कोई कांटे हो

 दुख रात तमिश्रा भरी हुई किसी की कभी न राते हो

 स्वार्थ भरा ही भाव हो जिसका मित्र ना ऐसे पाले हो

 गलत कभी भी जो बोले लगे ओठ पर ताले हो

 मन से उज्जवल रहे हमेशा तन से चाहे काले हो

सदा ही दिल से प्रेम ही छलके भाव भरी ही आंखें हो

साथ मिले सबका ही हरदम विरोध भरी न चालें हो

 धन-धान्य से सब कुछ भरा रहे कभी ना अन्न के लाले हो


 गिरिराज पांडे

 वीर मऊ 

प्रतापगढ़

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image