तेरे बिन

सुनीता जौहरी

भंवरा भुन- भुन गीत सुनाता

बयार संग हरियाली लाता

पपीहा कोयल कूक लगाता


सावन उमड़- घुमड़ कर हर्षाएं 

पानी भर -भर बादल इठलाएं

रोम- रोम ये पुलकित कर जाएं ।



तुम भी आ जाते प्रिय मेरे

तृप्त होती गले लग तेरें

यादें आए- जाए बहुतेरे ।



संग- संग बीतें थे जो तेरे

दिन - रैन रहते मुझे घेरे

पतझड़ बसंत लगातें फेरें ।


आओं साजन अब न सताओ

नहीं कटें दिन- रैन बताओं

आनें की अब आस जताओं ।


सूनी- सूनी मोरी डगरिया

अंसुवन से भरुं मैं गगरिया

न संदेशा न तोरी खबरिया ।


तुझ बिन सब श्रंगार अधूरे

रात अमावस भए सब मेरे

जीवन मरण अब हाथ तेरे ।।

______________________

सुनीता जौहरी

वाराणसी

उत्तर प्रदेश

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
मधुर वचन....
Image