"दोहा"



महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

कोरोना किरदार का, कैसा होगा चित्र।

मानव मानव से डरा, रहा पुराना मित्र।।-1


दवा नहीं पाताल तक, लगी हुई है फौज।

कोरोना के कीट की, नहीं हो सकी खोज।।-2


दुवा भरोशे आदमी, दवा भरोशे वैद।

चीन भरोशे रोग यह, कोरोना में भेद।।-3


बाँध दिया था भीष्म ने, गंगा जी में बाँध।

इनके जैसा वीर ही, दे कोरोना काँध।।-4


रावण से बलवान है, यह कोरोना काल।

बजरंगी के देश में, फुला रहा है गाल।।-5


संजीवनी सुषेन की, दिखा रही है रंग।

धीरे धीरे ही सही, शिथिल कोरोना अंग।।-6



Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मतभेद
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image