दो कुण्डलिया



माया शर्मा

ली राहत की साँस थी,सबने ही यह देख।

विपदा शायद टल गयी,करते थे उल्लेख।।

करते थे उल्लेख,सभी उबरे हैं इससे।

मन में था संतोष,मिले जो कहते उससे।।

लौटी देती मौत ,नहीं थी जिसकी चाहत।

टीका एक उपाय,सोच सबने ली राहत।।


खाँसी आयी देख कर,हुए सभी हैरान।

काढ़ा-भाप दिला रहे,मिश्रण का ले ज्ञान।।

मिश्रण का ले ज्ञान,कूटते जड़ियाँ खल में।

मधु में उसको डाल,चटाते तुलसी दल में।।

घर में रहना ठीक,नहीं समझें यह फाँसी।

संयम और बचाव,ठीक कर देगी खाँसी।।


**माया शर्मा,पंचदेवरी,गोपालगंज(बिहार)**

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image