प्यार बांटते चलो

 



प्रेम बजाज

गिरा कर नफरतों की दीवार प्यार बांटते चलो, भूला कर रंग रूप का भेदभाव सबको एक सुत्र में बांधते चलो, मिटा दो भेदभाव जात-पात के, लहु का रंग सब का एक है, सब ही औलाद है उस ईश की, सबसे ईश का एक सा ही नाता है, यही इन्सानियत का पाठ एक - दूजे को पढ़ाते चलो, प्यार बांटते चलो।

ना जाने कब किस गली के मोड़ पर जीवन की शाम ढल जाए, बना लो किसी को अपना, दे दो किसी को सहारा, ले लो किसी की दुआएं। खाली हाथ आए थे खाली हाथ जाना है, ये जग तो मानुष केवल कुछ पल का ठिकाना है, इसे ना अपना समझने की भूल करो,प्यार बांटते चलो।

मुसाफिर है सब इस सफ़र के, संसार मुसाफिर खाना है, मिले जो राह में मुसाफिर, हमें उसको अपना बनाना है, मन में ना रखो बैर-भाव, सबको अपना बना लो तुम, है वक्त बहुत मुश्किल अपनेपन के सहारे से इसे आसान बनाते चलो, सबसे प्रेम का रिश्ता निभाते चलो, प्यार बांटते चलो।

बैचेनी और ग़मों के बोझ तले सब दबे जा रहे, कुछ बैठ गए थक कर, कुछ रख हिम्मत चले जा रहे, नहीं रूकना, नहीं थकना हमें, मुश्किल राह से उबरना है, लगा कर कांटों को गले फूलों को चुनना है, कांटों में से फूलों उठाते चलो, प्यार बांटते चलो।



Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image