पतझड़

निर्मला  जोशी 'निर्मल'

  में वृक्ष

पत्र विहीन

होकर भी

एक उम्मीद में

जीता   है ,

फिर लौट के 

आएगा बसन्त

मेरे  आँगन में।

फिर बहार मुस्कुराएगी ,

ठूंठ  फिर हरा - भरा होगा

   पर ये लोकतंत्र  का वृक्ष 

     कैसे  हरा- भरा होगा   ???

     ये  दिनों-दिन  सूखता जा रहा है

    भ्रष्टाचार का  कीड़ा 

     इसकी जड़ों  को खाता ही  जा  रहा है ।

      अब   तो  बसंत  के मौसम में भी 

       सर्वत्र    पतझड़    नजर आ रहा है ।

          कौन बचाएगा उसे

           पतझड़   होने   से ???

           आरोप-प्रत्यारोप

          के तीर   कब तक  चलाते रहेंगे??

           असल मुद्दों  को  छोड़ कर 

           कब तक  हमे  भरमाते  रहेंगे ??

          आरोप  -प्रत्यारोप के 

          दाँव-पेंच  को छोड़ कर अब

           असल मुद्दों पर  आ जाइए

            मिल बैठ कर  समस्याएं सुलझाइए

         भारत-वृक्ष को पतझड़ होने से  बचाइये।

                           पतझड़ होने से बचाइए। 


         

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image