कर्मफल



सतेन्द्र शर्मा 'तरंग' 

कर्म इन्सान का हो बस इन्सानियत पाने के लिए, 

बनाया खुदा ने उसको दिलों में बस जाने के लिए। 


बेबसी पर किसी की कभी तरस आया नहीं जिनको, 

बेबस हुए वे एक वक्त में गिड़गिड़ाने के लिए।


ठोकरों में अपनी जो रखते थे जमाने को, 

मजबूर हुए वे जमाने में लड़खड़ाने के लिए। 


गुलाम समझा जिसने दुनिया की हर शै को, 

विवश हुए वे दुनिया में हाथ फैलाने के लिए। 


समझते थे खुद को जो फरिश्ता नैतिकता का 'तरंग', 

मुॅह छिपाये गये वे दागदार दामन छिपाने के लिए। 


**सतेन्द्र शर्मा 'तरंग' 

११६, राजपुर मार्ग, 

देहरादून ।

🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image