भगवान

नीरज कुमार सिंह

उंगलियां थकने लगी,

ॐ शांति लिखते लिखते,

मौत की खबरे सुनते सुनते,

 अब तो पकने लगे हैं कान,

अब बस भी करो भगवान ।


हर तरफ मचा कोहराम,

दहशत का पहरा है घहरा,

धरती सुनी सुनी सी हो गई,

कही न हो जाए ये विरान,

अब बस भी करो भगवान।


मनुज को गलती का हुआ एहसास

काटे इसने खूब हरे पेड़ों को ,

किया प्रकृति को इसने खूब सत्यानाश ,

महंगी हवा हुई , बिकने लगी है सास,

किंतु पत्थर न बनो ,हे दया निधान,

अब बस भी करो भगवान।


नीरज कुमार सिंह

देवरिया यू पी

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मतभेद
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image